जिस्म २ (टाइटल) Jism 2 Title Lyrics in Hindi from Jism 2 (2012)

Jism 2 Title Lyrics in Hindi. जिस्म २ (टाइटल) song from Jism 2 2012. It stars Sunny Leone, Randeep Hooda, Arunoday Singh. Singer of Jism 2 Title is Ali Azmat. Lyrics are written by Arko Pravo Mukherjee, Munish Makhija Music is given by Arko Pravo Mukherjee

Song Name : Jism 2 Title
Album / Movie : Jism 2 2012
Star Cast : Sunny Leone, Randeep Hooda, Arunoday Singh
Singer : Ali Azmat
Music Director : Arko Pravo Mukherjee
Lyrics by : Arko Pravo Mukherjee, Munish Makhija
Music Label : T-series

यह जिस्म है तोह क्या
यह रूह का लिभास है
यह दर्द है तोह क्या
यह इश्क़ की तलाश है
फ़ना किया मुझे
यह चाहने की आस ने
तरह तरह
शिक़स्त ही हुआ

राजा है क्या तेरी
दिल-ो-जहाँ तबाह किया
सज़ा भी क्या तेरी
वफ़ा को बेवफा किया
दोबारा ज़िन्दगी
से यूँ मुझे जुड़ा किया
कहाँ कहाँ
फिरूं मैं ढूंढता

राजा है क्या तेरी
दिल-ो-जहाँ तबाह किया
सज़ा भी क्या तेरी
वफ़ा को बेवफा किया
दोबारा ज़िन्दगी
से यूँ मुझे जुड़ा किया
कहाँ कहाँ
फिरूं मैं ढूंढता

वहाँ जहाँ
तू ही मेरा लिभास है
वहाँ जहाँ
तेरी ही बास तलाश है
वहाँ जहाँ
तुझी पे ख़तम ास है
वही शुरू
वही पे दफ़न जान है

वहाँ जहाँ
तू ही मेरा लिभास है
वहाँ जहाँ
तेरी ही बास तलाश है
वहाँ जहाँ
तुझी पे ख़तम ास है
वही शुरू
वही पे दफ़न जान है

यह जिस्म है तोह क्या
यह रूह का लिभास है
यह दर्द है तोह क्या
यह इश्क़ की तलाश है
फ़ना किया मुझे
यह चाहने की आस ने
तरह तरह
शिक़स्त ही हुआ.

Yeh jism hai toh kya
Yeh rooh ka libhaas hai
Yeh dard hai toh kya
Yeh ishq ki talaash hai
Fanaa kiya mujhe
Yeh chahne ki aas ne
Tarah tarah
Shiqast hi hua

Raza hai kya teri
Dil-o-jahan tabaah kiya
Sazaa bhi kya teri
Wafaa ko bewafa kiya
Dobara zindagi
Se yun mujhe judah kiya
Kahan kahan
Phirun main dhoondhta

Raza hai kya teri
Dil-o-jahan tabaah kiya
Sazaa bhi kya teri
Wafaa ko bewafa kiya
Dobara zindagi
Se yun mujhe judah kiya
Kahan kahan
Phirun main dhoondhta

Wahan jahan
Tu hi mera libhaas hai
Wahan jahan
Teri hi bass talaash hai
Wahan jahan
Tujhi pe khatam aas hai
Wahi shuru
Wahi pe dafan jaan hai

Wahan jahan
Tu hi mera libhaas hai
Wahan jahan
Teri hi bass talaash hai
Wahan jahan
Tujhi pe khatam aas hai
Wahi shuru
Wahi pe dafan jaan hai

Yeh jism hai toh kya
Yeh rooh ka libhaas hai
Yeh dard hai toh kya
Yeh ishq ki talaash hai
Fanaa kiya mujhe
Yeh chahne ki aas ne
Tarah tarah
Shiqast hi hua.