जिसको उस मालिक की रहमत Jisko Us Malik Ki Rehmat Lyrics in Hindi from Son Of Hatimtai

Jisko Us Malik Ki Rehmat Lyrics in Hindi. जिसको उस मालिक की रहमत song from Son Of Hatimtai. It stars Radhawa, Mumtaz, Malika Matruti. Singer of Jisko Us Malik Ki Rehmat is Mohammed Rafi. Lyrics are written by Shadab Akhtar Music is given by Bulo C. Rani

Song Name : Jisko Us Malik Ki Rehmat
Album / Movie : Son Of Hatimtai
Star Cast : Radhawa, Mumtaz, Malika Matruti
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Bulo C. Rani
Lyrics by : Shadab Akhtar
Music Label : Saregama

जब भी दोहाई गयी
तेरे करम की दासता
झुक गए सज्दे में तेरा
नाम लेकर दो जहा

जिसको उस मालिक की रहमत का
सहारा मिल गया
उसको मंजिल मिल गयी
उसको किनारा मिल गया
जिसको उस मालिक की रहमत का

मर्दे मोमिन ने कहा
अल्लाहु अकबर जिस घडी
बन गयी फौलाद की ज़ंजीर
फूलों की लड़ी
टूर पर देखा था मूसा ने
जिसे वो कौन था
वो कौन था
रुक गया तूफ़ान
रुक गया तूफान मौजे बन गयी
खुद न खुदा
खुद न खुदा
खुद न खुदा
नुहु की कश्ती को जब
उसका इशारा मिल गया
उसको मंजिल मिल गयी
उसको किनारा मिल गया
जिसको उस मालिक की रहमत का

ए खुदा के नेक बन्दे
बूख में कुरानी न भूल
हज़रत इब्राहीम के बेटे की
क़ुरबानी न भूल
रहे हाकिमे मोमिनो का
नाम ज़िंदा हो गया
कुफर जब हद से बढ़ा
कुफर जब हद से बढ़ा
इस्लाम ज़िन्दा हो गया
इस्लाम ज़िन्दा हो गया
इस्लाम ज़िन्दा हो गया
हो गया जिंदा
जिसे उसका इशारा मिल गया
उसको मंजिल मिल गयी
उसको किनारा मिल गया
जिसको उस मालिक की रहमत का

सर नागो है मस्जिदे
तेरी मुक़द्दर की राह में
जगमगाता है तेरा ही
नाम हर दरगाह में
तू है राब्बुल आलमी
मक्के मदीने की कसम
तेरे दर पर रुक गए है
तेरे दर पर रुक गए है
हर नमाज़ी के कदम
हर नमाज़ी को तेरे
दर का सहारा मिल गया
उसको मंजिल मिल गयी
उसको किनारा मिल गया
जिसको उस मालिक की रहमत का.

Jab bhi dohayi gayi
Tere karam ki dasta
Jhuk gaye sajde me tera
Naam lekar do jaha

Jisko us malik ki rahmat ka
Sahara mil gaya
Usko manzil mil gayi
Usko kinara mil gaya
Jisko us malik ki rahmat ka

Marde momin ne kaha
Allahu akbar jis ghadi
Ban gayi faulad ki zanjeer
Phulo ki ladi
Tur par dekha tha musa ne
Jise wo kaun tha
Wo kaun tha
Ruk gaya toofan
Ruk gaya tufan mauje ban gayi
Khud na khuda
Khud na khuda
Khud na khuda
Nuhu ki kashti ko jab
Uska ishara mil gaya
Usko manzil mil gayi
Usko kinara mil gaya
Jisko us malik ki rahmat ka

Aye khuda ke nek bande
Bukh me kurani na bhul
Hazarat ibrahim ke bete ki
Kurbani na bhul
Rahe hakime momino ka
Naam zinda ho gaya
Kufar jab had se badha
Kufar jab had se badha
Islam zinda ho gaya
Islam zinda ho gaya
Islam zinda ho gaya
Ho gaya zinda
Jise uska ishara mil gaya
Usko manzil mil gayi
Usko kinara mil gaya
Jisko us malik ki rahmat ka

Sar nago hai maszide
Teri mukaddar ki rah mein
Jagmagata hai tera hi
Naam har dargah mein
Tu hai rabbul aalmi
Makke madine ki kasam
Tere dar par ruk gaye hai
Tere dar par ruk gaye hai
Har namazi ke kadam
Har namazi ko tere
Dar ka sahara mil gaya
Usko manzil mil gayi
Usko kinara mil gaya
Jisko us malik ki rahmat ka.