जिस जगह पे ख़तम Jis Jagah Pe Khatam Lyrics in Hindi from Players (2012)

Jis Jagah Pe Khatam Lyrics in Hindi. जिस जगह पे ख़तम song from Players 2012. It stars Abhishek Bachchan, Bobby Deol, Sonam Kapoor, Neil Nitin Mukesh, Bipasha Basu, Sikander Kher, Omi Vaidya. Singer of Jis Jagah Pe Khatam is Mauli Dave, Neeraj Shridhar, Siddharth Basrur. Lyrics are written by Ashish Pandit Music is given by Pritam Chakraborty

Song Name : Jis Jagah Pe Khatam
Album / Movie : Players 2012
Star Cast : Abhishek Bachchan, Bobby Deol, Sonam Kapoor, Neil Nitin Mukesh, Bipasha Basu, Sikander Kher, Omi Vaidya
Singer : Mauli Dave, Neeraj Shridhar, Siddharth Basrur
Music Director : Pritam Chakraborty
Lyrics by : Ashish Pandit
Music Label : T-Series

अब तक तोह हमे कोई
समझा ही नहीं
हाँ कोई हमे
पहचाना है कहाँ
नहीं किसी को खबर
है वह मंजिल कौन सी
आखिर हमें जाना है जहां

हो हम चले तोह दिन भी
खुद बा खुद चलते हैं
हम जहां रुक जाए
वहीँ रात होती है
जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है
जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है

चुप हैं अगर हम
यह अपनी शराफत है
वर्ण डोरों के न
रूकती शरारत है
पैसा है कितना यह
पूछो ज़रा मुझसे
इस को भी रो दे तू
ज़ुल्फ़ों के सावन से

इस बहाने तू भी
थोड़ा सा भीगे गए
कौन सी रोज़ाना यह
बरसात होती है

जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है
जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है

आपसी अदायों का
कयल ज़माना है
लेकिन यह दिल तोह
तेरी ही दीवाना है
अब तुम मिले हैं
तोह कोई वजह होगी
इस में भी शायद
खुदा की रज़ा होगी

दो दिलों का मिलना
है वही करता है
चाहने से कब यह
मुलाकात होती है

जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है
जिस जगह पे ख़तम
सब की बात होती है
उस जगह से हमारी
शुरुवात होती है.

Ab tak toh hume koi
Samjha hi nahin
Haan koi hume
Pehchana hai kahan
Nahin kisi ko khabar
Hai woh manzil kaun si
Aakhir hume jaana hai jahaan

Ho hum chale toh din bhi
Khud ba khud chalte hain
Hum jahaan ruk jaaye
Wahin raat hoti hai
Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai
Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai

Chup hain agar hum
Yeh apni sharafat hai
Warna doron ke na
Rukti sharaarat hai
Paisa hai kitna yeh
Poocho zara mujhse
Iss ko bhi ro de tu
Zulfon ke saavan se

Iss bahaane tu bhi
Thoda sa bheege ga
Kaun si rozana yeh
Barsaat hoti hai

Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai
Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai

Apsi adaayon ka
Kayal zamana hai
Lekin yeh dil toh
Teri hi deewana hai
Ab tum mile hain
Toh koi wajah hogi
Iss mein bhi shayad
Khuda ki raza hogi

Do dilon ka milna
Hai wahi karta hai
Chaahne se kab yeh
Mulakaat hoti hai

Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai
Jis jagah pe khatam
Sab ki baat hoti hai
Uss jagah se humari
Shuruwaat hoti hai.