जिन्हें नाज़ है हिन्द पर Jinhe Naaz Hai Hind Par Lyrics in Hindi from Pyaasa (1957)

Jinhe Naaz Hai Hind Par Lyrics in Hindi. जिन्हें नाज़ है हिन्द पर song from Pyaasa 1957. It stars Guru Dutt, Mala Sinha, Waheeda Rehman, Johnny Walker, Rehman. Singer of Jinhe Naaz Hai Hind Par is Mohammed Rafi. Lyrics are written by Sahir Ludhianvi Music is given by Sachin Dev Burman

Song Name : Jinhe Naaz Hai Hind Par
Album / Movie : Pyaasa 1957
Star Cast : Guru Dutt, Mala Sinha, Waheeda Rehman, Johnny Walker, Rehman
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Sachin Dev Burman
Lyrics by : Sahir Ludhianvi
Music Label : Saregama

ये कूचे ये नीलाम
घर दिलकशी के
ये कूचे ये नीलाम
घर दिलकशी के
ये लुटते हुए
कारवां ज़िन्दगी के
कहाँ हैं कहाँ हैं
मुहाफ़िज़ ख़ुदी के
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ है
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

ये पुरपेच गलियां
ये बदनाम बाजार
ये गुमनाम राही
ये सिक्कों की झंकार
ये इस्मत के सौदे
ये साँसों के तक़रार
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ है
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

ये सदियों से बेख़ौफ़
सहमी सी गलियां
ये मसलि हुयी अधखिली
ज़र्द कलियाँ
ये बिकती हुयी खोखली
रंगरलियां
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

वो उजले दरीचों में
पायल की छन छन
थकी हारी साँसों
पे टेबल की धंधन
वो उजले दरीचों में
पायल की छन छन
थकी हारी साँसों
पे टेबल की धंधन
ये बेरूह कमरों में
खांसी की ठनठन
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ है
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

ये फूलों के गजरे
ये पीकों के छींटे
ये बेबाक नज़रें
ये गुस्ताख फ़िक़रे
ये धलके बदन और
ये बिमार चेहरे
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ है
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

यहां पर भी आ चुके
हैं जवान भी
तनोमन्द बेते भी हा हा
अब्बा मियाँ भी
ये बीवी भी है
ये बीवी भी है और
बहिन भी है मान भी
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

मदद चाहती है
ये हव्वा की बेटी
यशोदा की हमजिंस
राधा की बेटी
मदद चाहती है
ये हव्वा की बेटी
यशोदा की हमजिंस
राधा की बेटी
पयम्बर की उम्मत
जुले खान की बेटी
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं

ज़रा मुल्क के
रहबरों को बुलाओ
ये कूचे ये गलियां
ये मंज़हर दिखाओ
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर उनको लाओ
जिन्हें नाज़ है हिन्द
पर वो कहाँ है
कहाँ हैं कहाँ
हैं कहाँ हैं.

Ye kooche ye nilaam
Ghar dilkashi ke
Ye kooche ye nilaam
Ghar dilkashi ke
Ye lutate huye
Caaravan zindagi ke
Kahaan hain kahan hain
Muhafiz khudi ke
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hai
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Ye purpech galiyaan
Ye badnaam bazaar
Ye gumnaam raahi
Ye sikkon ki jhankaar
Ye ismat ke saude
Ye saanson ke taqraar
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hai
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Ye sadiyon se bekhauf
Sehmi si galiyaan
Ye masli huyi adhkhili
Zard kaliyaan
Ye bikti huyi khokhli
Rangraliyaan
Jinhen naaz hai hind
Par wo kahaan hain
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Wo ujle darichon mein
Paayal ki chhan chhan
Thaki haari saanson
Pe table ki dhandhan
Wo ujle darichon mein
Paayal ki chhan chhan
Thaki haari saanson
Pe table ki dhandhan
Ye berooh kamron me
Khaansi ki thanthan
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hai
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Ye phoolon ke gajre
Ye pikon ke chhinte
Ye bebaak nazren
Ye gustaakh fiqre
Ye dhalke badan aur
Ye bimar chehre
Jinhen naaz hai hind
Par wo kahaan hai
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Yahaan pir bhi aa chuke
Hain jawaan bhi
Tanomand bete bhi ha ha
Abbaa miyaan bhi
Ye biwi bhi hai
Ye biwi bhi hai aur
Behan bhi hai maan bhi
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hain
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Madad chaahti hai
Ye hawwa ki beti
Yashoda ki hamjins
Radha ki beti
Madad chaahti hai
Ye hawwa ki beti
Yashoda ki hamjins
Radha ki beti
Payambar ki ummat
Jule khan ki beti
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hain
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain

Zara mulk ke
Rahbaron ko bulaao
Ye kooche ye galiyaan
Ye manzhar dikhaao
Jinhe naaz hai hind
Par unko laao
Jinhe naaz hai hind
Par wo kahaan hai
Kahaan hain kahaan
Hain kahaan hain.