जिहाल इ मसकीन Jihaal E Maskin Lyrics in Hindi from Ghulami (1985)

Jihaal E Maskin Lyrics in Hindi. जिहाल इ मसकीन song from Ghulami 1985. It stars Dharmendra, Mithun Chakraborty, Naseeruddin Shah, Reena Roy, Smita Patil Kulbhushan Kharbanda, Raza Murad. Singer of Jihaal E Maskin is Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar. Lyrics are written by Gulzar (Sampooran Singh Kalra) Music is given by Laxmikant Shantaram Kudalkar (Laxmikant Pyarelal), Pyarelal Ramprasad Sharma (Laxmikant Pyarelal)

Song Name : Jihaal E Maskin
Album / Movie : Ghulami 1985
Star Cast : Dharmendra, Mithun Chakraborty, Naseeruddin Shah, Reena Roy, Smita Patil Kulbhushan Kharbanda, Raza Murad
Singer : Lata Mangeshkar, Shabbir Kumar
Music Director : Laxmikant Shantaram Kudalkar (Laxmikant Pyarelal), Pyarelal Ramprasad Sharma (Laxmikant Pyarelal)
Lyrics by : Gulzar (Sampooran Singh Kalra)
Music Label : Saregama

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं
सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं

वो आके पहलू में ऐसे बैठे
वो आके पहलू में ऐसे बैठे
के शाम रगीन हो गयी हैं
के शाम रगीन हो गयी हैं
के शाम रगीन हो गयी हैं
ज़रा ज़रा सी खिली तबियत
ज़रा सी ग़मगीन हो गयी हैं
ज़रा ज़रा सी खिली तबियत
ज़रा सी ग़मगीन हो गयी हैं

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं
सुनाई देती हैं जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं

अजीब हैं दिल के दर्द
अजीब हैं दिल के दर्द यारो
न हो यो मुश्किल है जीना इसका
न हो यो मुश्किल है जीना इसका
जो हो तो हर दर्द एक हिरा
हरेक गम है नगीना इसका
जो हो तो हर दर्द एक हिरा
हरेक गम हैं नगीना इसका

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं
सुनाई देती हैं जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं

कभी कभी शाम ऐसे ढलती हैं
के जैसे घूंघट उतर रहा हैं
उतर रहा हैं
कभी कभी शाम ऐसे ढलती हैं
के जैसे घूंघट उतर रहा हैं
तुम्हारे सीने से उठ था धुंआ
हमारे दिल से गुज़ार रहा हैं
तुम्हारे सीने से उठ था धुंआ
हमारे दिल से गुज़ार रहा हैं

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं
सुनाई देती हैं जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं

ये शर्म हैं या हया हैं क्या हैं
नज़र उठाते ही झुक गयी हैं
नज़र उठाते ही झुक गयी हैं
तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम
हमारी आँखों में रुक गयी हैं
तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम
हमारी आँखों में रुक गयी हैं

जिहाल इ मसकीन मकुन बी रंजिश
बहाल इ हिज्र बेचारा दिल हैं
सुनाई देती हैं जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं

सुनाई देती हैं जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल हैं.

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain
Sunaai deti hai jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain
Sunaai deti hai jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain

Vo aake pahalu mein aise baithe
Vo aake pahalu mein aise baithe
Ke shaam ragin ho gayi hain
Ke shaam ragin ho gayi hain
Ke shaam ragin ho gayi hain
Zaraa zaraa si khili tabiyat
Zaraa si gamagin ho gayi hain
Zaraa zaraa si khili tabiyat
Zaraa si gamagin ho gayi hain

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain
Sunaai deti hain jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain

Ajib hain dil ke dard
Ajib hain dil ke dard yaaro
Na ho yo muskil hai jina iska
Na ho yo muskil hai jina iska
Jo ho to har dard ek hira
Harek gum hai nagina iska
Jo ho to har dard ek hira
Harek gum hain nagina iska

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain
Sunaai deti hain jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain

Kabhi kabhi shaam aise dhalati hain
Ke jaise ghunghat utar rahaa hain
Utar rahaa hain
Kabhi kabhi shaam aise dhalati hain
Ke jaise ghunghat utar rahaa hain
Tumhaare sine se uth thaa dhuaan
Hamaare dil se guzaar rahaa hain
Tumhaare sine se uth thaa dhuaan
Hamaare dil se guzaar rahaa hain

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain
Sunaai deti hain jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain

Ye sharm hain ya hayaa hain kya hain
Nazar uthaate hi jhuk gayi hain
Nazar uthaate hi jhuk gayi hain
Tumhaari palako se girake shabanam
Hamaari aankho mein ruk gayi hain
Tumhaari palako se girake shabanam
Hamaari aankho mein ruk gayi hain

Jihaal e maskin makun b ranjish
Bahaal e hijr bechaaraa dil hain
Sunaai deti hain jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain

Sunaai deti hain jisaki dhadakan
Tumhaaraa dil ya hamaaraa dil hain.