जिगर में दर्द कैसा Jigar Mein Dard Kaisa Lyrics in Hindi from Apna Ghar Apni Kahani

Jigar Mein Dard Kaisa Lyrics in Hindi. जिगर में दर्द कैसा song from Apna Ghar Apni Kahani. It stars Mumtaz, Keshto. Singer of Jigar Mein Dard Kaisa is Kamal Barot, Mahendra Kapoor. Lyrics are written by Qamar Jalalabadi Music is given by Datta Naik

Song Name : Jigar Mein Dard Kaisa
Album / Movie : Apna Ghar Apni Kahani
Star Cast : Mumtaz, Keshto
Singer : Kamal Barot, Mahendra Kapoor
Music Director : Datta Naik
Lyrics by : Qamar Jalalabadi
Music Label : Saregama

जिगर में दर्द कैसा
इसको उल्फ़त तो नहीं कहते
मुझे डर है कही इसको
मोहब्बत तो नहीं कहते
शायद यह प्यार है क्या
हा हा यह प्यार है
जिगर में दर्द कैसा
इसको उल्फ़त तो नहीं कहते
मुझे डर है कही इसको
मोहब्बत तो नहीं कहते
शायद ये प्यार है क्या
हा हा यह प्यार है

ले आयी किस जगह मेरी
दीवानगी मुझे
किसने जहाने हुस्न से
आवाज़ दी मुझे
फुलो में छुप
के आई है
दुल्हन बहार की
या आस्मा से आयी
है देवी यह प्यार की
जिगर में दर्द कैसा
इसको उल्फ़त तो नहीं कहते
मुझे डर है कही इसको
मोहब्बत तो नहीं कहते
शायद यह प्यार है क्या
हा हा यह प्यार है

इतनी हँसी ऐडा मेरी
कायनात थी
पहले भी रात थी मगर
ऐसी न रात थी
डूबी न थी नज़र कभी
ऐसे शरूर में
यह बात तो नहीं थी
सितारों के नूर में
जिगर में दर्द कैसा
इसको उल्फ़त तो नहीं कहते
मुझे डर है कही इसको
मोहब्बत तो नहीं कहते
शायद यह प्यार है क्या
हा हा यह प्यार है.

Jigar mein dard kaisa
Isko ulfat to nahi kahte
Mujhe dar hai kahi isko
Mohabbat to nahi kahte
Shayad yeh pyar hai kya
Ha ha yeh pyar hai
Jigar mein dard kaisa
Isko ulfat to nahi kahte
Mujhe dar hai kahi isko
Mohabbat to nahi kahte
Shayad ye pyar hai kya
Ha ha yeh pyar hai

Le aayi kis jagha meri
Deewangi mujhe
Kisne jahane husn se
Aawaz di mujhe
Phulo mein chhup
Ke aayi hai
Dulhan bahar ki
Ya aasma se aayi
Hai devi yeh pyar ki
Jigar mein dard kaisa
Isko ulfat to nahi kahte
Mujhe dar hai kahi isko
Mohabbat to nahi kahte
Shayad yeh pyar hai kya
Ha ha yeh pyar hai

Itni hansi ada meri
Kaynat thi
Pahle bhi raat thi magar
Aisi na raat thi
Dubi na thi nazar kabhi
Aise sharur mein
Yeh baat to nahi thi
Sitaro ke nur mein
Jigar mein dard kaisa
Isko ulfat to nahi kahte
Mujhe dar hai kahi isko
Mohabbat to nahi kahte
Shayad yeh pyar hai kya
Ha ha yeh pyar hai.