जिगर का दर्द बढ़ता Jigar Ka Dard Badhta Lyrics in Hindi from Street Singer (1966)

Jigar Ka Dard Badhta Lyrics in Hindi. जिगर का दर्द बढ़ता song from Street Singer 1966. It stars David Abraham, Agha, Bela Bose, Chandrashekhar, Helen, Manmohan Krishna, Madan Puri, Keshav Rana, Sarita,K.N. Singh, Sunder. Singer of Jigar Ka Dard Badhta is Mohammed Rafi, Sharda Rajan Iyengar. Lyrics are written by Hasrat Jaipuri Music is given by Shankar Singh Raghuvanshi

Song Name : Jigar Ka Dard Badhta
Album / Movie : Street Singer 1966
Star Cast : David Abraham, Agha, Bela Bose, Chandrashekhar, Helen, Manmohan Krishna, Madan Puri, Keshav Rana, Sarita,K.N. Singh, Sunder
Singer : Mohammed Rafi, Sharda Rajan Iyengar
Music Director : Shankar Singh Raghuvanshi
Lyrics by : Hasrat Jaipuri
Music Label : Saregama

कहा सूरज कहा मैं एक जला
कहा सूरज कहा मैं एक जला
सितारों से मिलाया जा रहा है
जिगर का दर्द बढ़ता जा रहा है

मोहब्बत की कश्ती में नदिया
मोहब्बत की कश्ती में नदिया
उदाशिया बीता जा रहा है
मज़ा जीने का अब तो आ रहा है

मुझे तुमने कहा पंहुचा दिया है
मुझे तुमने कहा पंहुचा दिया है
के मुझसे आस्मा शर्मा रहा है
जिगर का दर्द बढ़ता जा रहा है

निगाहों से निगाहें मिल रही है
निगाहों से निगाहें मिल रही है
मेरा दिल है के झुमा जा रहा है
मज़ा जीने का अब तो आ रहा है

तेरे एहसान का मारा हुआ हु
तेरे एहसान का मारा हुआ हु
मुझे तुम और मरा जा रहा है
जिगर का दर्द बढ़ता जा रहा है
नशा उल्फत का छाया जा रहा है
मज़ा जीने का अब तो आ रहा है
जिगर का दर्द बढ़ता जा रहा है.

Kaha suraj kaha main ek jala
Kaha suraj kaha main ek jala
Sitaro se milaya ja raha hai
Jigar ka dard badhta ja raha hai

Mohabbat ki kashti mein nadiya
Mohabbat ki kashti mein nadiya
Udashiya beeta ja raha hai
Maza jine ka ab to aa raha hai

Mujhe tumne kaha pahucha diya hai
Mujhe tumne kaha pahucha diya hai
Ke mujhse aasma sharma raha hai
Jigar ka dard badhta ja raha hai

Nigaho se nigahe mil rahi hai
Nigaho se nigahe mil rahi hai
Mera dil hai ke jhuma ja raha hai
Maza jine ka ab to aa raha hai

Tere ehsan ka mara hua hu
Tere ehsan ka mara hua hu
Mujhe tum aur mara ja raha hai
Jigar ka dard badhta ja raha hai
Nasha ulfat ka chaya ja raha hai
Maza jine ka ab to aa raha hai
Jigar ka dard badhta ja raha hai.