झूठे ज़माने भर के Jhuthe Zamaane Bhar Ke Lyrics in Hindi from Musafir Khana

Jhuthe Zamaane Bhar Ke Lyrics in Hindi. झूठे ज़माने भर के song from Musafir Khana. It stars Karan Dewan, Shyama, Johny Walker. Singer of Jhuthe Zamaane Bhar Ke is Mohammed Rafi. Lyrics are written by Majrooh Sultanpuri Music is given by Omkar Prasad Nayyar

Song Name : Jhuthe Zamaane Bhar Ke
Album / Movie : Musafir Khana
Star Cast : Karan Dewan, Shyama, Johny Walker
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Omkar Prasad Nayyar
Lyrics by : Majrooh Sultanpuri
Music Label : Saregama

मेरी निगाह ने क्या
काम लाजवाब किया
की तुझको लाखो
में इंतख़ाब किया

झूठे ज़माने भर के
हाय जादू कैसा
दार गए मोपे
नीची नज़र कर के
जीते है मर मर के
है ऐसे दो न हमें
गोरी टुकड़े जिगर कर कर के

मैं बेकरार नहीं
प्यार की नज़र के लिए
की तेरे तीर बहुत है
मेरे जिगर के लिए
यहां भी दर्द ए
जिगर का इलाज कौन करे
बस इक नज़र तेरी काफी
है उम्र भर के लिए

झूठे ज़माने भर के
जादू कैसा डर गए मोपे
नीची नज़र कर के
जीते है मर मर कहाय
ताने ऐसे दो न हमें
गोरी टुकड़े जिगर कर कर के

जब से तूने मेरे दिल
का चमन आबाद किया
जब चलि थडी हवा
मैंने तुझे याद किया
हम तो कहते ही
नहीं कुछ मगर
ै जान े जहां
लोग कहते है की
तूने हमें बरबाद किया

झूठे ज़माने भर के
जादू कैसा डर गए मोपे
नीची नज़र कर के
जीते है मर मर कहाय
ताने ऐसे दो न हमें
गोरी टुकड़े जिगर कर कर के
झूठे ज़माने भर के

यकीं हमको न उल्फ़त
का तुम दिलाओ ज़रा
अब ऐसे देख के हमको
न मुस्कुराओ ज़रा
चलो नहीं है तुम्हे
हमसे वास्ता न सही
धड़कते दिल को संभालो
नज़र उठाओ ज़रा
झूठे ज़माने भर

झूठे ज़माने भर के
जादू कैसा डर गए मोपे
नीची नज़र कर के
जीते है मर मर कहाय
ताने ऐसे दो न हमें
गोरी टुकड़े जिगर कर कर के
झूठे ज़माने भर के.

Meri nigaah ne kya
Kaam lajawaab kiya
Ki tujhako laakho
Mein itakhaab kiya

Jhuthe zamaane bhar ke
Haay jaadu kaisa
Daar gaye mope
Nichi nazar kar ke
Jite hai mar mar ke
Haay aise do na hame
Gori tukade jigar kar kar ke

Main bekaraar nahi
Pyaar ki nazar ke lie
Ki tere tir bahut hai
Mere jigar ke lie
Yahaan bhi dard e
Jigar ka ilaaj kaun kare
Bas ik nazar teri kaafi
Hai umr bhar ke lie

Jhuthe zamaane bhar ke
Jaadu kaisa daar gaye mope
Nichi nazar kar ke
Jite hai mar mar kehaay
Taane aise do na hame
Gori tukade jigar kar kar ke

Jab se tune mere dil
Kaa chaman aabaad kiya
Jab chali thadi hawa
Maine tujhe yaad kiya
Ham to kahate hi
Nahi kuchh magar
Ai jaan e jahaan
Log kahate hai ki
Tune hame barabad kiya

Jhuthe zamaane bhar ke
Jaadu kaisa daar gaye mope
Nichi nazar kar ke
Jite hai mar mar kehaay
Taane aise do na hame
Gori tukade jigar kar kar ke
Jhuthe zamaane bhar ke

Yaqin hamako na ulfat
Ka tum dilao zara
Ab aise dekh ke hamako
Na muskurao zara
Chalo nahi hai tumhe
Hamase wasta na sahi
Dhadakate dil ko sambhalo
Nazar uthaao zara
Jhuthe zamaane bhar

Jhuthe zamaane bhar ke
Jaadu kaisa daar gaye mope
Nichi nazar kar ke
Jite hai mar mar kehaay
Taane aise do na hame
Gori tukade jigar kar kar ke
Jhuthe zamaane bhar ke.