जीवन एक सौदा है Jeevan Ek Sauda Hai Lyrics in Hindi from Ek Baar Phir (1980)

Jeevan Ek Sauda Hai Lyrics in Hindi. जीवन एक सौदा है song from Ek Baar Phir 1980. It stars Suresh Oberoi, Deepti Naval, Saeed Jaffrey. Singer of Jeevan Ek Sauda Hai is Anuradha Paudwal. Lyrics are written by Vinod Pandey Music is given by Pandit Raghunath Seth

Song Name : Jeevan Ek Sauda Hai
Album / Movie : Ek Baar Phir 1980
Star Cast : Suresh Oberoi, Deepti Naval, Saeed Jaffrey
Singer : Anuradha Paudwal
Music Director : Pandit Raghunath Seth
Lyrics by : Vinod Pandey
Music Label : Saregama

चिंगारी वही फिर भड़की
दिल में वही तूफ़ान उठे
दबाया था जिन ज़ख्मो को
फिर चमके
सुलाया था जिन सपनो को
फिर जागे
मेरे दोस्त मेरे हमदम
किऐसे समजौ तुझे
जीवन एक सौदा है
हम सब है सौदाई
चमका सूरज कभी
तो कभी बदली घिर आयी
जीवन एक सौदा है

अच्छे बुरे है
जैसे भी अनुभव
लेने बड़की है
घोर अँधेरा हो या उजियारा
दोनों साथ में चलते है
सुख दुःख का यह चक्कर
ऐसे ही चलता रहता है
जीवन एक सौदा है

तुम से मिल के जीवन में
ऐसी विणा पूजी थी
हर साँस और खयालो में
मेरे तुम थे तुम थे
तुम ही तुम थे
पर दुनिया की सच्चाई है ऐसी
मानना यही पड़ता है
जीवन एक सौदा है

निस्चल वेहते झरने के
अमृत जैसे जाल हो तुम
कोमल किनके फूलो से
भावक तुम्हारे हे निर्मल
पर पारी भासा मेरे जीवन की
और हे और रहेगी वो
जीवन एक सौदा है

सम्बन्ध यह हम दोनों के
एक मीठा सपना थे
मन के गुलशन में
मेरे नयी बहार का धोखा थे
हकीकत के दायरे सक्ने है
उन में निभाना पायंगे
जीवन एक सौदा है
हम सब है सौदाई
चमका सूरज कभी
तो कभी बदली घिर आयी
जीवन एक सौदा है.

Chingari wahi phir bhadki
Dil mein wahi toofan uthe
Dabaya tha jin zakhmo ko
Phir chamke
Sulaya tha jin sapno ko
Phir jaage
Mere dost mere humdum
Kiase samjau tujhe
Jeevan ek sauda hai
Hum sab hai saudai
Chamka sooraj kabhi
To kabhi badli ghir aayi
Jeevan ek sauda hai

Achhe bure hai
Jaise bhi anubhav
Lene badke hai
Gor andhera ho ya ujiyara
Dono sath mein chalte hai
Sukh dukh ka yeh chakkar
Aise hi chalta rehta hai
Jeevan ek sauda hai

Tum se mil ke jeevan mein
Aisi vina pooji thi
Har sans aur khayalo mein
Mere tum the tum the
Tum hi tum the
Par duniya ki sachai hai aisi
Manana yahi padta hai
Jeevan ek sauda hai

Nischal vehte zarne ke
Amrut jaise jaal ho tum
Komal kinke phulo se
Bhavak tumhare he nirmal
Par pari bhasa mere jeevan ki
Aur he aur rahegi wo
Jeevan ek sauda hai

Sambandh yeh hum dono ke
Ek meetha sapna the
Man ke gulshan mein
Mere nayi bahar ka dhokha the
Haqeeqat ke dayare sakne hai
Un mein nibhana payange
Jeevan ek sauda hai
Hum sab hai saudai
Chamka sooraj kabhi
To kabhi badli ghir aayi
Jeevan ek sauda hai.