जीते थे जिसके दम से Jeete The Jiske Dam Se Lyrics in Hindi from Roohi (1981)

Jeete The Jiske Dam Se Lyrics in Hindi. जीते थे जिसके दम से song from Roohi 1981. It stars Mazhar Khan, Zarina Wahab, Meena Rai, Mukesh Khanna, Asha Sachdev, Sudhir Dalvi. Singer of Jeete The Jiske Dam Se is Manhar Udhas. Lyrics are written by Indeevar (Shyamalal Babu Rai) Music is given by N/A

Song Name : Jeete The Jiske Dam Se
Album / Movie : Roohi 1981
Star Cast : Mazhar Khan, Zarina Wahab, Meena Rai, Mukesh Khanna, Asha Sachdev, Sudhir Dalvi
Singer : Manhar Udhas
Music Director : N/A
Lyrics by : Indeevar (Shyamalal Babu Rai)
Music Label : Universal

तेरी याद सलामत है दिल में
दिल टूट गया तो टूट गया
हम ठाम के दिल को क्या करते
जब दामन तेरा छूट गया

जीते थे जिसके दम से
जीते थे जिसके दम से
दुनिया ने से उसे छिना
किस काम का यह जीना
जीते थे जिसके दम से
दुनिया ने से उसे छिना
किस काम का यह जीना
जीते थे जिसके दम से

तक़दीर मेरी क्या खूब निकली
मेरी दोस्त की वो मेहबूब निकली
तक़दीर मेरी क्या खूब निकली
मेरी दोस्त की वो मेहबूब निकली
इतनी मासूमियत से आके
कह दिया दोस्त ने जाते जाते
मेरी जान का ख्याल रखना
अपनों ही के हाथों से
अपनों ही के हाथों से
पड़ता है ज़हर पीना
किस काम का यह जीना
जीते थे जिसके दम से

जिसे अपना मन पराया था वो
उड़ता हुआ एक साया था वो
जिसे अपना मन पराया था वो
उड़ता हुआ एक साया था वो
वो काली थी किसी के चमन की
थी शामा कसी और अंजुमन की
दिल को जिस से किया था रोशन
नज़दीक था किनारा
नज़दीक था किनारा
डूबा यह जब सफीना
किस काम का यह जीना
जीते थे जिसके दम से
दुनिया ने से उसे छिना
किस काम का यह जीना
जीते थे जिसके दम से.

Teri yaad salamat hai dil mein
Dil tut gaya to tut gaya
Hum tham ke dil ko kya karte
Jab daman tera chhut gaya

Jeete the jiske dam se
Jeete the jiske dam se
Duniya ne se use chhina
Kis kaam ka yeh jeena
Jeete the jiske dam se
Duniya ne se use chhina
Kis kaam ka yeh jeena
Jeete the jiske dam se

Taqdeer meri kya khub nikali
Meri dost ki wo mehboob nikali
Taqdeer meri kya khub nikali
Meri dost ki wo mehboob nikali
Itni masumiyat se aake
Keh diya dost ne jaate jaate
Meri jaan ka khayal rakhna
Apno hi ke haatho se
Apno hi ke haatho se
Padta hai zeher peena
Kis kaam ka yeh jeena
Jeete the jiske dam se

Jise apna mana paraya tha wo
Udta hua ek saya tha wo
Jise apna mana paraya tha wo
Udta hua ek saya tha wo
Wo kali thi kisi ke chaman ki
Thi shama ksi aur anjuman ki
Dil ko jis se kiya tha roshan
Nazdik tha kinaara
Nazdik tha kinaara
Duba yeh jab safina
Kis kaam ka yeh jeena
Jeete the jiske dam se
Duniya ne se use chhina
Kis kaam ka yeh jeena
Jeete the jiske dam se.