जीने से भी ज़्यादा जीएं Jeene Se Bhi Zyada Jeeyein Lyrics in Hindi from Dhanak (2016)

Jeene Se Bhi Zyada Jeeyein Lyrics in Hindi. जीने से भी ज़्यादा जीएं song from Dhanak 2016. It stars Hetal Gada, Krrish Chhabria, Gulfam Khan, Vipin Sharma, Vibha Chibber, Vijay Maurya. Singer of Jeene Se Bhi Zyada Jeeyein is Shivam Pathak. Lyrics are written by Manoj Yadav Music is given by Tapas Relia

Song Name : Jeene Se Bhi Zyada Jeeyein
Album / Movie : Dhanak 2016
Star Cast : Hetal Gada, Krrish Chhabria, Gulfam Khan, Vipin Sharma, Vibha Chibber, Vijay Maurya
Singer : Shivam Pathak
Music Director : Tapas Relia
Lyrics by : Manoj Yadav
Music Label : Times Music

मुट्ठि है छोटी
पाना है सारा
इससे काम में न
करना गुज़ारा

हम क्या जाने
क्या है अँधेरा
आँखों में रक्खे
हम अपना सवेरा
खरी रेट के खेत में
मेथे कहब गए
मिलो रास्ता रास्ता
पेरो में सजाये

खरी रेट के खेत में
मेथे कहब गए
मिलो रास्ता रास्ता
पेरो में सजाये

हूँ जीने से भी ज़्यादा जीएं
ुधनो से भी आगे ुधी
ख्वाहिशे आसमानी ज़िंदा है
उम्मीद तो फ़िक्र क्या
हूँ जीने से भी ज़्यादा जीएं
ुधनो से भी आगे ुधी
ख्वाहिशे आसमानी ज़िंदा है
उम्मीद तो फ़िक्र क्या

रे थक कर क्यों भला हम थम जाये
चलो न थोड़ा होसलो को समझाए
हूँ आँधियो से शर्त लगाए
के ज़िन्दगी की आँख से आँख मिलाए
जाये मंज़िलो से लिपट कर आये

खरी रेट के खेत में
मेथे कहब गए
मिलो रास्ता रास्ता
पेरो में सजाये
हूँ जीने से भी ज़्यादा जीएं
ुधनो से भी आगे ुधी
ख्वाहिशे आसमानी ज़िंदा है
उम्मीद तो फ़िक्र क्या

इन कदमों ने जीत ली है सब रहे
बहू ने थामी आसमान की बही
चलो जी खुशियो के घर हो आये
के कोना कोना मुस्कानों से सजाये
ख्वाबो की आँखो को धनक पहनाये
खरी रेट के खेत में
मेथे कहब गए
मिलो रास्ता रास्ता
पेरो में सजाये
हूँ जीने से भी ज़्यादा जीएं
ुधनो से भी आगे ुधी
ख्वाहिशे आसमानी ज़िंदा है
उम्मीद तो फ़िक्र क्या.

Mutthi hai choti
Pana hai sara
Isse kam mein na
Karna guzara

Hum kya jane
Kya hai andhera
Aankho mein rakkhe
Hum apna savera
Khari ret ke khet mein
Methe khab gae
Milo rasta rasta
Pero mein sajaye

Khari ret ke khet mein
Methe khab gae
Milo rasta rasta
Pero mein sajaye

Hoo jeene se bhi zyada jeeyein
Udhano se bhi aage udhee
Khwahishey aasmani zinda hai
Umeed to fikar kya
Hoo jeene se bhi zyada jeeyein
Udhano se bhi aage udhee
Khwahishey aasmani zinda hai
Umeed to fikar kya

Re thak kar kyu bhala hum tham jaye
Chlo na thoda hoslo ko smjhaye
Hoo aandhiyo se shart lgaye
Ke zindagi ki aankh se aankh milaye
Jaye manzilo se lipat kar aaye

Khari ret ke khet mein
Methe khab gae
Milo rasta rasta
Pero mein sajaye
Hoo jeene se bhi zyada jeeyein
Udhano se bhi aage udhee
Khwahishey aasmani zinda hai
Umeed to fikar kya

In kadmo ne jeet li hai sab rahe
Bahoo ne thami aasman ki bahee
Chlo ji khushiyo ke ghar ho aaye
Ke kona kona muskano se sajaye
Khwabo ki annkho ko dhanak pehnaye
Khari ret ke khet mein
Methe khab gae
Milo rasta rasta
Pero mein sajaye
Hoo jeene se bhi zyada jeeyein
Udhano se bhi aage udhee
Khwahishey aasmani zinda hai
Umeed to fikar kya.