जवानी में आग लगी Jawani Mein Aag Lagi Lyrics in Hindi from Hathkadi (1995)

Jawani Mein Aag Lagi Lyrics in Hindi. जवानी में आग लगी song from Hathkadi 1995. It stars Govinda, Shilpa Shetty, Madhoo, Shakti Kapoor, Kiran Kumar. Singer of Jawani Mein Aag Lagi is Anu Malik, Krishnan Nair Shantakumari Chitra (K.S. Chitra). Lyrics are written by Maya Govind Music is given by Anu Malik

Song Name : Jawani Mein Aag Lagi
Album / Movie : Hathkadi 1995
Star Cast : Govinda, Shilpa Shetty, Madhoo, Shakti Kapoor, Kiran Kumar
Singer : Anu Malik, Krishnan Nair Shantakumari Chitra (K.S. Chitra)
Music Director : Anu Malik
Lyrics by : Maya Govind
Music Label : Tips

जवानी में आग लगी जल जल मरूं
जवानी में आग लगी जल जल मरूं
जवानी में आग लगी जल जल मरूं
जल जल मरूं रे बाबा जल जल मरूं
मेरी किस्मत में बुद्धा है
हो मेरी किस्मत में बुद्धा है
हाय क्या करूँ
जवानी में आग लगी जल जल मरूं

मैं सत्र की तू सत्तर का
अरे माँ की मैं तू पत्थर का
मेरी कलाई क्यों न पकडे
थी खातिर काम किये कपडे
ये लाल लाल गाल मेरे
अरे रेशमी बाल मेरे
होठ बेमिसाल मेरे
हे नखरे कमल मेरे
हे नखरे कमल मेरे
नखरे कमल मेरे

चिटक जाये शिक्षा जो
चिटक जाये शिक्षा जो अंगडाई लू
जवानी में आग लगी जल जल मरूं
जल जल मरूं रे बाबा जल जल मरूं
मेरी किस्मत में बुद्धा है
हाय क्या करूँ
जवानी में आग लगी जल जल मरूं

उम्र भर का नशा दू मैं
होठो से पिला दू मैं
मैं मैं बोतल समझ के पिले
मैं भी जी लूँ तू भी जी ले
ये मौसम सर्द है
और दिल में मेरे दर्द है
तड़प लगायी थी
कैसा तू मर्द है
कैसा तू मर्द है
कैसा तू मर्द है

मैं बिस्तर पे पड़ी पड़ी
मैं बिस्तर पे पड़ी पड़ी
आहे भरु
जवानी में आग लगी जल जल मरूं
जल जल मरूं रे बाबा जल जल मरूं.

Jawani mein aag lagi jal jal maroon
Jawani mein aag lagi jal jal maroon
Jawani mein aag lagi jal jal maroon
Jal jal maroon re baba jal jal maroon
Mori kismat mein buddha hai
Ho mori kismat mein buddha hai
Haye kya karu
Jawani mein aag lagi jal jal maroon

Main sathra ki tu sattar ka
Are mom ki main tu pathar ka
Mari kalai kyu na pakde
Thari khatir kam kiye kapde
Ye lal lal gal mere
Are reshmi bal mere
Hoth bemisal mere
He nakhre kamal mere
He nakhre kamal mere
Nakhre kamal mere

Chitak jaye shisha jo
Chitak jaye shisha jo angdai lu
Jawani mein aag lagi jal jal maroon
Jal jal maroon re baba jal jal maroon
Mori kismat mein buddha hai
Haye kya karu
Jawani mein aag lagi jal jal maroon

Umar bhar ka nasha du main
Hotho se pila du main
Mann main botal samajh ke pile
Main bhi ji lu tu bhi ji le
Ye mausam sard hai
Aur dil mein mere dard hai
Tadap lagayi thari
Kaisa tu mard hai
Kaisa tu mard hai
Kaisa tu mard hai

Main bistar pe padi padi
Main bistar pe padi padi
Aahe bharu
Jawani mein aag lagi jal jal maroon
Jal jal maroon re baba jal jal maroon.